ALL State International Health
विशेष रूप से तैयार की गई इस चाय के सेवन से इम्युनिटी मजबूत करने में मिलेगी मदद
July 21, 2020 • A.K.SINGH • Health
अगर चाय तैयार करने में कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का प्रयोग किया जाए तो सेहत के लिहाज से और भी अच्छा रहेगा।

 

नई दिल्‍ली। Immunity Booster Tea गर्मागर्म चाय की एक प्याली बारिश के मौसम का मजा दोगुना कर देती है। अगर चाय तैयार करने में कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का प्रयोग किया जाए तो सेहत के लिहाज से और भी अच्छा रहेगा। विशेष रूप से तैयार की गई चाय के सेवन से इम्युनिटी मजबूत करने में मिलती है मदद। दिन में एक या दो बार तुलसी, दालचीनी, काली मिर्च, सूखी अदरक और मुनक्का का काढ़ा पीना सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है। स्वाद के लिए इसमें गुड़ या नींबू भी मिला सकते हैं। भारतीय परिवारों में खांसी, जुकाम और सेहत से जुड़ी कई छोटी-मोटी परेशानियों के लिए लोग काढ़ा पीते हैं।

दालचीनी की चाय: दालचीनी की चाय वजन घटाने में मदद करती है। इसके सेवन से हृदय रोग का जोखिम कम हो जाता है। यह ब्लड शुगर को संतुलित बनाए रखने में मदद करती है। यह बैक्टीरिया व फंगल इंफेक्शन से भी बचाव करती है। आधा इंच दालचीनी की छाल लेकर इसे एक गिलास पानी में पांच-सात मिनट तक उबालकर गुनगुना पीएं।

जीरा चाय: यह चाय पाचन तंत्र को मजबूत बनाती है और शरीर पर बढ़ी चर्बी को घटाने में मदद करती है। इसमें जीरा के साथ धनिया और मेथी के बीज भी मिला सकते हैं। आधा चम्मच जीरा, आधा चम्मच धनिया के बीज और आधा चम्मच मेथी दाना को एक कप पानी में डालकर उबालें। अच्छी तरह से उबलने के बाद इसे गुनगुना करके पिएं।

तुलसी-काली मिर्च की चाय: यह चाय बेहद कारगर इम्युनिटी बूस्टर है और मौसमी संक्रमणों से लड़ने में मदद करती है। काली मिर्च के साथ यदि तुलसी और लौंग को मिलाकर इसका सेवन करें तो यह और भी फायदेमंद हो जाएगी। तुलसी के तीन-चार पत्ते, दो काली मिर्च और एक लौंग को 2 गिलास पानी में उबालें, 2 मिनट बाद इसे गुनगुना पिएं।

अदरक की चाय: अदरक की चाय गले के संक्रमण से बचाने के साथ ही भूख बढ़ाने में भी मददगार होती है। यह चाय सर्दी और खांसी से राहत देने के साथ पेट की कई समस्याओं से छुटकारा दिलाती है। आधा चम्मच कसी हुई अदरक को एक गिलास पानी में पांच से छह मिनट तक उबालें। उबालने के बाद इसे गुनगुना पिएं। जिन लोगों को हाइपरएसिडिटी या हाई ब्लडप्रेशर की शिकायत है, तो वे डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद ही इस चाय का सेवन करें।