ALL State International Health
UP में दर्ज हो रही FIR पर बोले अखिलेश- लगता है कोरोना मेडिकल नहीं, आपराधिक समस्या है
May 21, 2020 • A.K.SINGH


लखनऊ, 21 मई (एएनएस)। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस से जुड़ी हजारों प्राथमिकी दर्ज हो रही हैं, जिनसे लगता है कि यह कोई चिकित्सकीय नहीं बल्कि आपराधिक समस्या है। उन्होंने कहा कि पृथक-वास केन्द्रों की बदहाली एवं उनके प्रति भाजपा सरकार की भेदभावपूर्ण नीति की वजह से लोग वहां जाने से डर रहे हैं। अखिलेश ने कहा कि भाजपाई अपना संकीर्ण चश्मा बदलें।

लॉकडाउन के उल्लंघन और जमाखोरी एवं काला बाजारी को काबू करने के लिए पुलिस पूरे प्रदेश में कार्रवाई कर रही है। उल्लंघन करने वालों के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कर रही है। दूसरी तरफ 1000 बसों को लेकर कांग्रेस और प्रदेश सरकार के बीच गतिरोध के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के निजी सचिव एवं उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू सहित कांग्रेस नेताओं के खिलाफ भी प्राथमिकी दर्ज की गई है।
अखिलेश ने इससे पहले एक अन्य टवीट में कहा था, 'अव्यवस्था के इस दौर में भी भाजपा कमजोर लोगों पर अत्याचार करने से नहीं चूक रही।' उन्होंने कहा, 'गरीबों-मजदूरों के साथ दुर्व्यवहार कर रही है और उन्हें घर तक न पहुंचाने के लिए तरह-तरह के बहाने ढूंढ रही है .... अति निंदनीय। ये भाजपाई राजनीति नहीं, षड्यंत्रकारी बाजनीति है।'

सपा अध्यक्ष ने बुधवार को एक बयान में कहा था कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार कोरोना वायरस संकट के बीच मजदूरों की घर पहुंचने की व्याकुलता को भी अपने राजनीतिक स्वार्थ साधने के लिए इस्तेमाल करने में संकोच नहीं कर रही है। अखिलेश ने में कहा, 'प्रदेश में दिन-रात श्रमिकों की दुर्दशा की दर्दनाक कहानी सुनकर दिल दहल जाता है। रोज ही वे दुर्घटनाओं के शिकार होकर जानें गंवा रहे हैं। इस सबसे उदासीन भाजपा सरकार ने सभी मानवीय मूल्यों को रौंद दिया है।'

उन्होंने कहा, 'समझ में नहीं आता कि जब सरकारी, निजी और स्कूलों की पचासों हजार बसें खड़े-खड़े धूल खा रही हैं तो प्रदेश की सरकार श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए इन बसों का इस्तेमाल क्यों नहीं कर रही? सरकार की हठधर्मिता बहुत भारी पड़ रही है।' अखिलेश ने कांग्रेस का नाम लिए बिना कहा, 'जो मदद को हाथ बढ़ते हैं, उनको झटक देने का अमानवीय बर्ताव भाजपा का आचरण बन गया है।'