ALL State International Health
सीबीएसई के 200 हाई स्कूलों में होगी आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की पढ़ाई, 13 राज्यों में चलेगा पाठ्यक्रम
July 17, 2020 • A.K.SINGH
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई ने देश के 200 हाई स्कूलों में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआइ) की पढ़ाई के लिए तकनीकी दिग्गज आइबीएम से हाथ मिलाया है।

 

नई दिल्ली, आइएएनएस। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Central Board of Secondary Education, CBSE) ने देश के 200 हाई स्कूलों में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआइ) की पढ़ाई के लिए तकनीकी दिग्गज आइबीएम से हाथ मिलाया है। देश के 13 राज्यों में स्थित इन हाई स्कूलों में कक्षा 11 व 12 में एआइ की पढ़ाई कराई जाएगी। यह सीबीएसई के सोशल एंपावरमेंट थ्रू वर्क एजुकेशन एंड एक्शन (सेवा) का एक हिस्सा है।

     एआइ का पाठ्यक्रम ज्ञान, कौशल व मूल्यों पर आधारित होगा। आइबीएम भारत व दक्षिण एशिया के जनरल मैनेजर संदीप पटेल ने एक बयान में कहा, 'सीबीएसई के साथ हमारे समझौते का उद्देश्य छात्रों को एक सहज व व्यापक एआइ प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराना है।' कंपनी का कहना है कि वह आगे छात्रों के लिए समस्या आधारित पठन-पाठन तथा शिक्षकों के लिए मूल्यांकन आधारित तकनीक विकसित करेगी।

     सीबीएसई की कक्षा 11 व 12 के लिए पाठ्यक्रम तैयार करने में आइबीएम के अलावा ऑस्ट्रेलिया की मैक्वायर यूनिवर्सिटी, लर्निग लिंक फाउंडेशन व 1एम1बी मदद कर रहे हैं। सीबीएसई चेयरमैन मनोज आहूजा के अनुसार, 'आइबीएम की मदद से हमें इस शिक्षण-प्रशिक्षण तकनीक की घोषणा करते हुए खुशी महसूस हो रही है।' आइबीएम की साझीदारी के साथ सितंबर 2019 में सीबीएसई ने एआइ पाठ्यक्रम की शुरुआत की थी।

     एआइ पाठ्यक्रम का उद्देश्य कक्षा 11वीं के पांच हजार छात्रों और एक हजार शिक्षकों को एआइ कौशल प्रदान करना था। आइबीएम व सीबीएसई ने छात्रों व शिक्षकों को प्रोत्साहित करने के लिए '2020 आइबीएम एडटेक यूथ चैलेंज' का भी आयोजन किया था।

उधर कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने अब ऑनलाइन माध्यम से शिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए बृहस्पतिवार को डिजिटल माध्यम से पहले निष्ठा कार्यक्रम की शुरूआत की। यह सबसे पहले आंध्रप्रदेश में शिक्षकों के 1200 मुख्य संसाधन व्यक्ति के लिए शुरू किया जा रहा है। इस मौके पर मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि 24 लाख शिक्षकों एवं स्कूलों के प्रमुखों को प्रशिक्षित करने के लिए निष्ठा कार्यक्रम को आनलाइन रूप में तैयार किया गया है।