ALL State International Health
रस्सी जल गई पर बल नहीं निकले,लॉक डाउन 5 में पुलिस को भोकाल दिखा रहे आज़म खा के लोग।
June 7, 2020 • A.K.SINGH

   कहते हैं रस्सी जल गई पर बल नहीं निकले, कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला रामपुर में जहां सपा नेता और रामपुर के सांसद आजम खान का भोकाल था, आज भले ही वह अपनी विधायक पत्नी व बेटे के साथ सीतापुर जेल में बंद है तो लेकिन अभी भी आज़म खान के समधी रिजवान मोहम्मद खान और उनका बेटा न सिर्फ लोकडाउन् के नियमो की खुले आम खिल्ली उड़ाते दिखे बल्कि टोकने पर रामपुर पुलिस कप्तान से ही भिड़ गए, रोड पर चेकिंग कर रहे एसपी रामपुर पर रौब डालने के लिए उन्के बेटे ने तो अपने को अमेरिका पुलिस का बता डाला। हालांकि उनकी यह है कड़ी पुलिस अधीक्षक के सामने बिल्कुल नहीं चली और उनके खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई करते हुए लॉक डाउन के उल्लंघन का मामला दर्ज कर लिया । पुलिस अधीक्षक से उनकी तकरार का नजारा आप को दिखाते हैं।

 
   पूरे देश में लॉक डाउन 5 की शुरुआत हो चुकी है जिसका पालन कराने के लिए शासन प्रशासन पुरजोर कोशिशों में लगा है आज रामपुर के शाहबाद गेट पर पूरा पुलिस प्रशासन अमला वाहनों की चेकिंग में लगा था तभी वहां अपनी लक्ज़री कर में अपने बेटे के साथ जा रहे आजम खान के समधी बिना मास्क लगाए जा रहे थे। पुलिस ने रोका लोकड़ाऊं के नियम का पालन करते हुए मास्क लगाने की सलाह दी तो वह पुलिस अधीक्षक से ही जा भिड़ गए और अपने बेटे को अमेरिकन पुलिस का बता कर  रौब झाड़ने लगे । जिसके बाद अधिकारियों  की उन से मास्क ना लगाने को लेकर तगड़ी बहस हो गई । आजम खान के समधी पुलिस पर रौब झाड़ने के लिए अपने बेटे को अमेरिकन पुलिस ने बता रहे थे जोकि सरासर झूठ था जिसके बाद उन्हें माफी भी मांगनी पड़ी लेकिन इस बहस का अंजाम यह हुआ कि उन्हें थाने जाना पड़ा पुलिस ने कोविड-19 के नियमों के उल्लंघन का मुकदमा दर्ज किया है।
 
 पुलिस अधीक्षक रामपुर से नोकझोक करते आज़म खान के समधी और उनका बेटा।
 
  जब पुलिस अधीक्षक जब खुद चेकिंग के दौरान मौके par  मौजूद थे  तभी एक तेज़ रफ़्तार कार ड्राइवर अपनी होंडा सिटी कार में फर्राटे भरता हुआ निकल गया पुलिस के रोकने पर भी नहीं रुका तो उसके नंबर के आधार पर पुलिस ने उसको ट्रेस कर लिया जिसके पास ड्राइविंग लाइसेंस भी नहीं था और ना ही मुंह पर मास्क लगा रखा था ओवर स्पीड ड्राइव करते हुए पुलिस अधीक्षक के पास से होकर निकल गया जिसमें अन्य पुलिसकर्मियों के घायल होने की भी संभावना थी लेकिन किसी तरह पुलिसकर्मियों ने हट बच कर खुद को बचा लिया हालांकि बहुत जल्द पुलिस अधीक्षक द्वारा वायरलेस पर सूचना करने के बाद आरोपी युवक को पकड़ लिया गया। जिसके बाद पुलिस अधीक्षक ने उसे जमकर फटकार लगाई और आरोपी के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है। 
 
 तेज़ रफ़्तार कर भगाने व बाद में पकड़ा गया  लड़का
 
    अपर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह ने बताया यह जो लॉक डाउन फेज़ फाइव है जिसमें तमाम चीजों में ढील दी गई है किंतु उसके साथ साथ सोशल डिस्टेंसिंग मास्क बेयरिंग इन सब चीजों का भी पालन सबको करना है इस उद्देश्य से आज चेकिंग चल रही थी शाहबाद गेट पर दो बार ऐसा वाकिया हुआ एक बार एक हौंडा सिटी कार चालक बिना मास्क लगाएं जा रहा था उसे रोकने का प्रयास किया गया तो तेजी से दौड़ाकर भागा उसमें पुलिसकर्मी घायल भी हो सकते बाद में उसे उसके नंबर से ट्रेस करके पुलिस ने पकड़ लिया है उसके खिलाफ मुकदमा लिखा गया है सिविल लाइंस थाने में इसी तरह से एक दूसरी इनोवा कार आई जिसमें चालक और उसकी बगल की सीट पर बैठे दोनों व्यक्ति मास्क नहीं पहने थे पुलिसकर्मियों ने रोका तो उनसे उलझने लगे कि हमें इन सारी चीजों की जानकारी है कहा कि मास्क रखे हैं !
      हम लगा लेंगे बाद में उन्होंने इस तरह की गलत सूचना भी दी बगल में बैठे आदमी ने कि यह भी पुलिस ऑफिसर है पूछा गया कहां के हैं तो बताया कि अमेरिका में तो पूछा अमेरिका से आप आए कब जब यह सारी जानकारी होने लगी तो उन्हें लगा कि झूठ बोलना जो गलत हुआ तो उनके खिलाफ भी अभियोग दर्ज किया गया है क्योंकि इसमें सेल्फ डिसीप्लिन होकर ही लोग चलेंगे तब ही सिस्टम चल पाएगा महामारी से भी हम लड़ पाएंगे और हमारी रोजमर्रा की लाइफ भी चल पाएगी। वहीं जब गिरफ्तार हुए व्यक्ति रिजवान के आजम खान से संबंध के बारे में अपर पुलिस अधीक्षक से पूछा गया तो उन्होंने कहा मैं इस बारे में नहीं बता सकता क्योंकि हमारा काम क्राइम क्रिमिनल पर काम करना है लॉ एंड ऑर्डर पर काम करना है जो गवर्नमेंट की पॉलिसीज है उसके इंप्लीमेंट पर काम करना है आज बहुत बड़ी बात है कि कोविड-19 को लेकर जो भी दिशा निर्देश गाइडलाइंस जारी हो रही हैं उनका पालन कराना है कौन किसका रिश्तेदार है यह हमारा ना विषय है ना हमें पता है।
 
अरुण कुमार सिंह (अपर पुलिस अधीक्षक, रामपुर)
 
एफ.वी.ओ: इस तरह के मामले से यह तो साफ देखा जा सकता है 2 महीने के लॉक डाउन के बाद भी लोगों में कोरोना को लेकर लोग मनमाने ढंग से अपना गैर जिम्मेदाराना रवैया अपना रहे हैं बड़ा सवाल उठता है क्या इस तरह की अनुशासनहीनता की बदौलत ही हम कोरोना वायरस से यह जंग जीती।जा सकती है।