ALL State International Health
लॉकडाउन -यूपी बोर्ड के माध्यमिक विद्यालयों में 20 अप्रैल से ई-लर्निंग, वाट्सएप व वर्चुअल क्लास के जरिये पढ़ाई
April 15, 2020 • A.K.SINGH

 

लखनऊ,Coronavirus : कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के कारण लागू लॉकडाउन को देखते हुए उत्तर प्रदेश के सभी स्कूल-कॉलेज बंद चल रहे हैं। यूपी बोर्ड की ओर से संचालित 27 हजार से अधिक माध्यमिक कालेजों ने इस संकट को हराने के लिए पहल की है। स्कूलों में पंजीकृत छात्र-छात्राओं की पढ़ाई अब ई-लर्निंग के माध्यम से होगी। उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने निर्देश दिया है कि सभी जिलों में एक साथ 20 अप्रैल से ऑनलाइन पठन-पाठन की व्यवस्था शुरू की जाए। इसके लिए वाट्सएप व वर्चुअल क्लास का सहारा लिया जाए।
उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने यह भी निर्देश दिया है कि कक्षा आठ से प्रोन्नत छात्र-छात्राओं का ऑनलाइन पंजीकरण कक्षा नौ में किया जाए। डिप्टी सीएम के निर्देश के बाद शिक्षा निदेशक माध्यमिक विनय कुमार पांडेय ने इस संबंध में सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों को पढ़ाई कराने का निर्देश जारी कर दिया है।
1. सभी डीआईओएस जिले के सभी माध्यमिक कालेजों के प्रधानाचार्यों का वाट्सएप ग्रुप बनाएं। 2. प्रधानाचार्य अपने स्कूल के शिक्षकों का ग्रुप बनाएं और पाठ्य योजना बनाकर छात्र-छात्राओं को प्रेषित करें। 3. यूपी बोर्ड की वेबसाइट पर पाठ्य पुस्तकें उपलब्ध हैं उसे डाउनलोड करके सभी विषय अध्यापकों को वाट्सएप ग्रुप पर भेजा जाए। 4. दीक्षा पोर्टल से छह से 12वीं तक की ई-बुक व वीडियो डाउनलोड कर छात्र-छात्राओं को भेजा जाए। 5. शिक्षक अपने विषय के छात्र-छात्राओं का वाट्सएप ग्रुप बनाएं, हर ग्रुप में कालेज प्रधानाचार्य को जरूर रखा जाए। 6. कालेज की समय सारिणी तैयार हो जिसमें अध्यापन के लिए सुबह नौ से शाम चार बजे तक को डेढ़ से दो घंटे के तीन खंडों में विभाजित करके विषयवार तय किया जाए। 7. वेबसाइट से डाउनलोड ई-पुस्तक व वीडियो आदि विषय शिक्षक छात्रों को एक दिन पूर्व ग्रुप पर भेजेंगे। 8. हर स्कूल विषय अध्यापक के लिए समय सारिणी बनाएगा, ताकि शिक्षक ऑनलाइन पढ़ाई करा सकें। 9. हर शिक्षक विषय के लिए आवंटित समय में ऑनलाइन रहने के लिए संदेश भेजेंगे छात्र-छात्राएं भी वाट्सएप ग्रुप पर ही प्रतिक्रिया देंगे। शिक्षक इसी माध्यम से उनका निराकरण करेंगे। इसी पर गृह कार्य दिया जाएगा और छात्र उसे पूरा करके फोटो के माध्यम से जवाब देंगे। छोटे-छोटे टेस्ट भी लिए जा सकते हैं।