ALL State International Health
COVID19 पर अंतरराष्ट्रीय वेबिनार
April 27, 2020 • A.K.SINGH

 

*COVID19 पर अंतरराष्ट्रीय वेबिनार ।।

वाराणसी । काशी हिन्दू विश्वविद्यालय वाराणसी, आयुर्वेद संकाय के तत्वावधान में फिक्की , पेशेंट सेफ्टी एंड असेस इनिशियेटिव ऑफ़ इंडिया फाउंडेशन, द अवेयर कंज़्यूमर एवं   कंज़्यूमर  ऑनलाइन फाउंडेशन के सहयोग से वर्चुअल इंटरनेशनल सेमिनार २०२० का आयोजन कोरोना वायरस जैसे महामारी से बचाव एवं चिकित्सा विषयक पर दिनांक 27.04.2020 से 02.05.2020 तक हो रहा है | यह कार्यक्रम प्रधानमंत्री जी के मंशानुरूप इस महामारी से लड़ने में आधुनिक चिकित्सा के साथ आयुर्वेद चिकित्सा विधि की भूमिका पर विमर्श के लिए किया जा रहा है|  महामना पंडित मदन मोहन मालवीय जी का भी यही मूल उदेश्य था कि प्राचीन चिकित्सा पद्धति एवं आधुनिक चिकित्सा पद्धति के सामन्ज्यस्य से ही विश्व को रोगमुक्त किया जा सकता है इसलिए ही आयुर्वेद को बढ़ाये जाने का सतत प्रयास किया जाता रहा है |

कार्यक्रम का  उद्घाटन  27.04.2020 को किया जायेगा। संकाय प्रमुख प्रोफेसर यामिनी भुषण त्रिपाठी द्वारा समस्त अतिथियों का स्वागत किया जायेगा। कार्यक्रम की भूमिका के बारे में श्री हबीबुल्ला ( आई ए एस ), श्री एल मन सिंह (आई ए एस ) , श्री दिलीप चिनॉय (फिक्की के जनरल सेक्रेटरी ) द्वारा बताया जायेगा| सांसद माननीय श्री अनुराग शर्मा,  रेक्टर काशी हिन्दू विश्वविद्यालय प्रोफेसर वी के शुक्ला एवं श्री रोबर्ट जोह्न्सटोने चेयर एसेस मैटर बोर्ड की नोट स्पीकर रहेगे|

   कार्यक्रम की अध्यक्षता माननीय कुलपति काशी हिन्दू विश्वविद्यालय  प्रोफेसर राकेश भटनागर करेंगे| सम्मानित अतिथ के रूप में संछिप्त परिचय कार्यक्रम का डॉ निर्मल कुमार गांगुली ( फार्मर डी जी, आई सी एम एर भारत सरकार ) द्वारा किया जायेगा |

   उद्घघाट्न समारोह का परिचय  एवं आयुर्वेद की प्रगति COVID19 भारत वर्ष में हो रहे कार्यो के बारे में सचिव आयुष भारत सरकार श्री वैद्य राजेश कोटेचा जी के द्वारा अवगत कराया जायेगा | धन्यवाद ज्ञापन प्रोफेसर के एन द्विवेदी जी द्वारा किया जायेगा | प्रोफेसर यामिनी भूषण त्रिपाठी जी ने  बताया कि  इस अन्तराष्ट्रीय संगोष्ठी में आयुर्वेद के चिकित्सा सिधान्तो एवं शास्त्रीय सम्मत आधार युक्त अनुभवों को रखने हेतु देश एवं विदेश के मूर्धन्य विद्वानों को आमंत्रित किया गया है। वेबिनार के दौरान विशेषज्ञों से प्रश्नोत्तर के लिए ३० मिनट का समय भी दिया जायेगा।

   वेबिनार के दौरान हुई चर्चाओं को उसे समेंकित रूप से भारत सरकार को सुझाव रूप में प्रेषित किया जायेगा जो COVID19 जैसे महामारी से लड़ने में मील का पत्थर साबित हो सकता है |