ALL State International Health
अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की पहचान है हिन्दीः डा. यदुवंशी
September 15, 2020 • A.K.SINGH

    अंग्रेजी में छब्बीस अक्षर होते हैं, हिन्दी में कितने?’ विषयक संगोष्ठी आयोजित
जौनपुर। हिन्दी दिवस के अवसर पर शिक्षाविद् डा. ब्रजेश कुमार यदुवंशी की अध्यक्षता में सिविल लाइन स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष ‘अंग्रेजी में छब्बीस अक्षर होते हैं, हिन्दी में कितने?’ विषयक संगोष्ठी सम्पन्न हुई। गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए शिक्षाविद् डा. ब्रजेश कुमार यदुवंशी ने कहा कि बहुत से पढ़े लिखे लोगों को भी नहीं मालूम कि हिन्दी में कितने अक्षर होते हैं। हिन्दी अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की पहचान बन गयी है।

हिंदी के विकास में विदेशी योगदान-आर पी सिंह

      विश्व के कई प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में हिन्दी पढ़ाई जाती है और कई विदेशी विद्वान हिन्दी में महत्वपूर्ण शोधकार्य में लगे हैं। डा. यदुवंशी ने कहा कि एक तरफ हिन्दी के स्वरूप का विकास हो रहा है, उसकी लोकप्रियता बढ़ रही है तो दूसरी तरफ नई पीढ़ी हिन्दी के प्रति उदासीन होती जा रही है, बल्कि हिन्दी में बोलने-लिखने में अपमान महसूस कर रही है। आज ज्यादातर घरों की खिड़कियों से अंग्रेजी पॉप संगीत छनकर आ रहा है। नई पीढ़ी इसकी धड़कनों पर थिरक रही है। आखिर ऐसा समय कब आयेगा, जब नई पीढ़ी शुद्ध हिन्दी बोलेगी, लिखेगी और पढ़ेगी।

      उन्होंने कहा कि हिन्दी की रोटी खाने वाले भी हिन्दी के साथ न्याय नहीं कर पा रहे हैं। हिन्दी के नाम पर मोटी रकम लेना और राष्ट्रभाषा हिन्दी को पूरी तरह स्थापित करना दोनों अलग काम है। हिन्दी भाषा अगर राजनीति की शिकार न हो तो मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि राष्ट्रीय एकता में हिन्दी ही सबसे ज्यादा कारगर साबित होगी। अन्त में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने हाथ में तख्ती लेकर पांच मिनट का मौन प्रदर्शन के साथ ही गांधी जी द्वारा की गई हिन्दी सेवा को याद करते हुए लोगों ने श्रद्धापूर्वक नमन किया। कार्यक्रम का संचालन नृत्यगुरू कृष्ण मुरारी मिश्र ने किया। इस अवसर पर अनिल केसरी, राज सिंह, शिवम शुक्ल, अम्बरीश सिंह, साहब लाल यादव, अवनीश पाण्डेय, प्रदुम्न सरोज, आजाद, गोविन्द देहाती, रितेश आदि उपस्थित रहे।